Wednesday, 30 March 2016

मुँह एवं दाँतों का रख रखाव एवं देखभाल

हम जो भी अपने शरीर को चलाने और उर्जा देने के लिए भोजन ग्रहण करते है सब मुँह के रास्ते होकर पेट में जाता है और स्वास्थ्य से जुडी सारी समस्याओं की शुरूआत अधिकांशतः पेट से  होती है | इसलिए अपने मुंह  की साफ सफाई भी उतनी ही जरुरी है जितना की  रोज खाना खाना !
मुँख  के रखरखाव मेँ  रोजाना अपने दातों की सफाई करना और वो भोजन के कण जो दातों में खाने के बाद भी फसे हुए रह जाते है उन्हें हटाना और जीभ की भी नियमित तौर से की सफाई आती है |  आप ओरल हाईजीन  को भी अपनी जिन्दगी में लागू करें | हर रोज ब्रश के साथ साथ जीभ और फ्लोसिग के जरिये सही से सफाई रखते हुए मुंह को डेन्टल  प्रॉबलम्स  से बचाके रख सकते है |

फ्लॉसिंग – दातों और मसूड़ों के अलावा मुहं में ऐसी बहुत सारी जगहे होती है जहाँ  ब्रश नहीं पहुँच पाते है और इसी वजह से यंहा बहुत जमा  होता  रहता है जो हमारे दातों की सेहत के लिए अच्छा नहीं है  फ्लॉसिंग से  आप दाँतों के बीच उन जगहों को भी साफ़ भी साफ़ कर  जहाँ ब्रश नहीं पहुंच पाते है 


प्लाक को हटाना - प्लाक को सामान्य  टूथ ब्रश से हटाया जा सकता है यह असल में एक चिपचिपी परत होती है जो खाने के बाद सही से मुहं की देखभाल नहीं करने वालों के मसूड़ों और दातों के बीच में जम जाती है और ऐसा इसलिए होता है क्योंकि हम या तो ठीक से ब्रश नहीं करते है या  करते ही नहीं है | सही विधि से डेंटिस्ट के परामर्श के अनुसार आप नियमित ब्रश करें और इस बात का ध्यान रखें कि रात को  भी खाने के बाद ब्रश करना चाहिए क्योंकि खाने के बाद जमी इस परत में कीटाणु हो सकते है जो आपके दातों की सेहत के लिए हानिकारक है और मसूड़ों को खराब करते  है एवं दाँतों  कैविटी कर देते है 



दाँतों की साफ सफाई 
  • दांतों की  टूथब्रश  इस्तेमाल करना चाहिए  हमेशा मुलायम एवं छोटे हेड वाला टूथब्रश इस्तेमाल करना चाहिए 
  • टूथब्रश एवं पेस्ट का चुनाव डेंटिस्ट की सलाह से करना चाहिए 
  • दाँतों में सेंसिटिविटी , मसूड़ों से खून  आना , आदि सभी अलग अलग  बीमारियों के लिए अलग अलग पेस्ट उपलब्ध है  जो  की डेंटिस्ट सलाह से ही ले टीवी पर प्रचार देख कर नहीं 
  • साथ ही इस बात का ध्यान रखना भी जरुरी है कि ब्रश का चुनाव करते समय यह सावधानी रखे कि आपके दातों और मसूड़ों की नाजुक परत को वो कोई नुक्सान नहीं पहुंचाए और उसके रेशे नाजुक होने चाहिए 
  • दांतों  सेंसिटिविटी के लिए टूथपेस्ट का  चुनाव डेंटिस्ट की सलाह से  करें 
  • पोटैशियम नाइट्रेट आधारित (सेंसिटिविटी) टूथपेस्ट ६ माह से ज्यादा इस्तेमाल  करें 
  • माउथवाश का इस्तेमाल भी डेंटिस्ट की सलाह  से ही करें chlorhexidine बेस्ड माउथवाश १५ दिन से ज्यादा इस्तेमाल ना  करें अथवा  डेंटिस्ट की सलाह  ले 
  • ब्रश करने की सही विधि का करें 







No comments:

Post a comment