Tuesday, 10 May 2016

मसूड़ों की बीमारियाँ (Gum Disease)

मसूड़ों की बीमारियाँ क्या हैं ?
मसूडों में खून आना , मसूड़ों में दर्द , मसूड़ों में सूजन , मसूड़ों में संक्रमण (इन्फ़ेक्शन ) आदि होने पर मसूड़ों में बीमारियाँ शुरू होती है ये मुख्यतः दो प्रकार की है जिंजीविटिस एवं परियोडोंटिटिस


जिंजीविटिस क्या है ?
जिंजीविटिस मतलब मसूड़ों में  सूजन ! इसके लक्ष्ण मसूड़ों में सूजन एवं लालपन पहचाने जाते है और ऐसे मसूडों में ब्रश करने पर  खून भी आता है






परिोडोंटिटिस क्या है ?
लंबे समय तक जिंजीविटिस रहने पर वह परिोडोंटिटिस में बदल जाती है ये बीमारी मुख्य रूप से दांत को सहारा प्रदान करने वाले ऊतकों को नष्ट करने का काम करती है जैसे जैसे बीमारी बढ़ती जाती है वैसे वैसे दाँत का सपोर्ट  सिस्टम (सहारा तंत्र ) कमजोर होता जाता है और समय पश्चात दाँत सहारा न होने से गिर जाते है !




कैसे पता लगा सकते है की में इस बीमारी से ग्रसित हूँ या नहीं ?


अधिकतर लोग इस बीमारी के किसी न किसी रूप से प्रभावित रहते है ! अधिकांशतः यह धीरे धीरे असर करती है पर जब यह पूर्ण रूप से उग्र होती है तो गम्भीर समस्याओं का सामना करना पड़ता है इसे पूर्णतः समाप्त नहीं कर सकते सिर्फ इसके प्रभाव को कम किया जा सकता है

मसूड़ों में होने वाली बिमारियों का मुख्य कारण क्या है?
मसूड़ों में होने वाली बिमारियों का मुख्य कारण प्लाक है ! यह एक पतली परत है जो की कई प्रकार के बैक्टीरिया हमारे दाँतों के ऊपर रोज बनाते है! प्लाक को प्रतिदिन ब्रश करके साफ़ किया जा सकता है फ्लॉस करके दो दॉँतों के बीच के प्लाक को साफ़ किया जा सकता है ब्रश कैसे करें ?

क्या धूम्रपान(smoking ) करने  से मसूड़ों पर फर्क पड़ता है ?
धूम्रपान करने से मसूड़ों की बीमारियां बढ़ जाती है ज्यादा प्लाक बनने से समस्या और बढ़ती जाती है धूम्रपान करने से रक्त में ऑक्सीजन की सप्लाई घट जाती है और जिससे संक्रमित मसूड़ों की बीमारी ठीक नहीं होती और वह बढ़ती जाती है
मसूड़ों की बीमारी दांत गिरने का सबसे प्रमुख कारण है

मसूड़ों की बीमारी के क्या नुकसान है ?
दुर्भाग्यवश मसूड़ों की बीमारी इतनी धीरे धीरे फैलती है की यह कभी दर्द ही नहीं करती की जिससे आप कभी इसे नोटिस कर पाएं कभी कभी जब बैक्टीरिया अधिक हो जाते है तो मसूड़ों में मवाद/पस भर जाता है जो दर्द करता है और मसूड़ों से बाहर निकलने लगता है अगर इसका इलाज न कराया जाये तो परिणाम गम्भीर हो सकते है

कैसे पता लगा सकते है की मुझे  मसूड़ों की बीमारी है या नहीं ?
प्रथम संकेत ब्रश के दौरान खून आना है मसूड़ों दर्द,सूजन, तथा मुँह से बदबू आना भी प्रमुख कारणों में है



मसूड़ों की  बीमारी का इलाज क्या है?
डेंटिस्ट सबसे पहले आपको स्केलिंग (दाँतों की सफाई ) की  सलाह देंगे जिसमे वह दांतों एवं मसूड़ों के ऊपर से प्लाक एवं टार्टर को हटाते है इसमें दो से तीन सिटिंग (अपॉइंटमेंट ) लगते है

कुछ कुछ मरीजों में रुट स्केलिंग की भी जरूरत होती है

क्या मसूड़ों की बीमारी अन्य बिमारियों को भी जन्म देती है?
हाँ मसूड़ों की बीमारी डायबिटीज ,स्ट्रोक ,ह्रदय रोग ,समय से पहले डिलीवरी आदि तमाम समस्यायों से सम्बंधित है
मुख हमारे शरीर का प्रवेश द्वार है इसे सदैव स्वच्छ एवं स्वस्थ रखें
































No comments:

Post a comment